वी - स्‍व-शक्ति

 

उद्देश्य
रोजगार और आय सृजनयोजनाएं और कार्यक्रमों को बढाना  बनाना जिससे कि महिलाओं को आत्मनिर्भर और आर्थिक दृष्टि सेस्वतंत्र बनाया जा सके.

प्रयोजन
लघु व्यवसाय, पेशेवर अथवास्व-नियोजित गतिविधियों और फुटकर व्यापार के लिए आर्थिक ज़रूरतें पूरी करने के लिएमहिला उद्यमियों को सहायता देना और महिला उद्यमियों को ॠण सुविधाएं देना. इनगतिविधियों के लिए सावधि ॠण/कार्यकारी पूंजी दी जाती है :

1.     सिलाई

2.     कैंटीन व केटरिंग

3.     अचार का मसाला बनाना

4.     क्लिनिक

5.     पापड़ बनाना

6.     ब्यूटी पार्लर

7.     क्रेश और प्ले स्कूल

8.     ट्यूशन और कोचिंग क्लास

9.     पुस्तकालय

10.   सिरैमिक्स

11.   डिपार्टमेंटल स्टोर

12.   हथकरघा

13.   मेडिकल शॉप

14.   सलाह मशविरा देना

15.   डॉक्टर /सनदी लेखाकार

16.   कैंडल बनाना

17.   स्वास्थ्य केंद्र

18.   लॉंड्री

19.   बेकरी

20.   फ्लोरिस्ट

21.   ट्रैवल एजेंसी

22.   दूध केंद्र

 पात्रता
1.     18 वर्ष पार कर चुकीं महिलाएं पात्र होंगी.
2.
सिर्फ निवासी व्यक्तियों को, जोहमारे ग्राहक हैं.. अगर हमारे बैंक
2.     के ग्राहक न हों तो, आवेदक/कों को खाता खोलने केलिए अपेक्षित मानदंडों का पालन करते हुए हमारे बैंक में खाता खोलनाहोगा.
3.     महिलाएं, स्वाम्य/साझेदारी फर्म, दोनों के लिए ॠण ले सकती हैं.
4.     अगरकारोबार, साझेदारी के आधार पर हो तो महिलाओं का अंशदान 51% से अधिक होना चाहिए.
 उधार देने संबंधी मानदंड
·         उच्चतम सीमा
o    अधिकतम वित्त 5 लाख रु.
·         मार्जिन
o    25000/- रु. तक : कुछ नहीं
o    25000/- रु. से अधिक : 15%
·         प्रतिभूति
  • लघु उद्योग
·         5.00 लाख रु. तक : बैंक वित्त में से निर्मित आस्तियों का दृष्टिबंधक. कोईसंपार्श्विक प्रतिभूति/अन्य पक्षकार गारंटी नहीं होगी. शाखाओं को ये ॠण, सीजीएफएसके अधीन समाविष्ट करने होंगे..
अन्य प्राथमिकता क्षेत्र
·         25000/- रु. तक : ॠण में से निर्मित आस्तियों का दृष्टिबंधक.
·         25000/- रु. से अधिक : ॠण में से निर्मित आस्तियों का दृष्टिबंधक औरसंपार्श्विक प्रतिभूति/अन्य पक्षकार गारंटी
प्रदर्शन