निधियेतर आधारित सुविधाएं

 

कर्ज पर मशीनें अथवा वस्‍तुएं खरीदने के लिए बैंक गारंटी करना

पात्रता: बैंक के मौजूदा ग्राहक और ऐसे ग्राहक जिनके गत लेन-देन संतोषजक पाए गए हों. सामान्‍यत: इस प्रकार की गारंटी की जरूरत उन ग्राहकों को होती है जो कर्ज पर मशीनें अथवा वस्‍तुएं खरीदना चाहते हैं. आस्‍थगित भुगतान गारंटी में, बैंक की तरफ से नियत तारीख को ग्राहकों द्वारा आस्‍थगित क़िस्तों के भुगतान की गारंटी का वचन दिया जाता है और यह घोषणा की जाती है कि भुगतान न किए जाने पर, बैंक, भुगतान करेगा.

 गारंटी की अवधि: 5 वर्ष तक. अपवादात्मक मामलों में, प्रत्‍येक मामले गुण-दोष के आधार पर अधिकतम 10 वर्ष तक बढ़ाई जा सकती है.

मार्जिन: खरीदी जानेवाली मशीनों/उपकरण की लागत पर 25% नकदी मार्जिन - घटाएं - आपूर्तिकर्ता को दी गई प्रारंभिक पेशगी - + डीपीजी रकम पर ब्‍याज अंश.

कमीशन की दर: महा नगरीय, नगरीय और अध-नगरीय शाखाओं के लिए सामान्‍य दर है; 100 रु. + 0.75% प्रति तिमाही या उसका अंश, न्‍यूनतम 3%.

ग्रामीण शाखाओं के लिए, कमीशन की दर है; 80 रु. + 0.75% प्रति तिमाही या उसका अंश, न्‍यूनतम 3%.

100% नकदी मार्जिन अथवा 100% सावधि जमाराशियों से प्रतिभूत डीपीजी के संबंध में, ऐसी गारंटी जारी करने के लिए न्‍यूनतम सिर्फ 28 रु. के साथ लागू दर से सिर्फ पर 25% लगाया जाएगा;

प्रतिभूति: गारंटी के लिए दी गई प्रतिभूति, या तो खुद की जमाराशियों के रूप में अथवा दूसरी स्‍वीकार्य गोचर प्रतिभूति हो सकती है जैसे; जीपी नोट, पर्याप्‍त अभ्‍यर्पण मूल्‍य के साथ बीमा पॉलिसियां और आसानी से बेचने लायक शेयर.

जमानत के तौर पर अचल संपत्ति का बंधक, सिर्फ अपवादात्मक मामलों में और तभी स्‍व ीकार किया जाए जब ग्राहक के बारे में अच्‍छी तरह मालूम हो , बशर्ते कि गारंटी राशि के कम से कम 25% के लिए नकदी मार्जिन दिया गया हो. प्रति गारंटी और संपार्श्विक प्रतिभूति के अतिरिक्‍त, बीमा कंपनी की क्षतिपूर्ति पॉलिसी पर भी आग्रह किया जाता है.

बयाना / ईएमडी के बदले बैंक गारंटी / निष्‍पादन गारंटी जारी करना

  1. रेलवे, पीडब्‍ल्‍यूडी आदि जैसे सरकारी विभागों के पक्ष में, जो टेंडर पैसे के बदले अपने ठेकेदारों से गारंटी चाहते हैं या वस्‍तुओं की आपूर्ति का ठेका पूरा कराना चाहते हैं, गारंटी देना.
  2. कर अदा करने के संबंध में बिक्री कर/आय कर प्राधिकारी.
  3. वस्‍तुओं की आपूर्ति के संबंध में भुगतान के प्रति प्रतिष्ठित कंपनियां.
  4. आस्‍थगित भुगतान के आधार पर मशीनों और संयंत्रों की आपूर्ति करनेवाले आपूर्तिकर्ताओं को, उनके खरीदारों द्वारा देय क़िस्तों और ब्‍याज दर के संबंध में बैंक गारंटी की जरूरत पड़ती है.
  5. सामूहिक बिक्री में व्‍यापारियों की सहभागिता की इजाजत के लिए सामूहिक बिक्री के नवीकरण के संबंध में कॉफी बोर्ड के पक्ष में गारंटी.
  6. रेलवे प्राधिकरण अथवा शॉपिंग कंपनियों को, आरआर और लदान बिल के बगैर संबंधित वस्‍त ुओं की सुपुर्दगी लेने तथा वस्‍तुएं मिलने पर पेश करने का वचन देने के सिलसिले में गारंटी जारी की जाती हैं.
  7. इसके अलावा, कई अन्‍य वाणिज्यिक लेन-देन के सिलसिले में बैंक गारंटी की जरूरत पड़ती है.

 

प्रतिभूति: गारंटी के लिए दी गई प्रतिभूति, या तो खुद की जमाराशियों के रूप में अथवा दूसरी स्‍वीकार्य गोचर प्रतिभूति हो सकती है जैसे; जीपी नोट, पर्याप्‍त अभ्‍यर्पण मूल्‍य के साथ बीमा पॉलिसियां और आसानी से बेचने लायक शेयर.

 जमानत के तौर पर अचल संपत्ति का बंधक, सिर्फ अपवादात्मक मामलों में और तभी स्‍व ीकार किया जाए जब ग्राहक के बारे में अच्‍छी तरह मालूम हो , बशर्ते कि गारंटी राशि के कम से कम 25% के लिए नकदी मार्जिन दिया गया हो.

कमीशन: वित्‍तीय अथवा निष्‍पादन गारंटी के प्रति क्रमश: 100 रु. + 0.75% अथवा 0.5% प्रति तिमाही या उसका अंश, न्‍यूनतम 3%.

संपार्श्विक प्रतिभूति/नकदी मार्जिन के प्रति वित्‍तीय गारंटी

  1. उन ग्राहकों की तरफ से जो एजेंट/लॉटरी टिकटें/एअरलाइन टिकटें बेचते हैं, सरकारी विभागों, एअरलाइन्‍स और अन्‍य कंपनियों के पक्ष में नकदी जमाराशि अथवा बयाना के बदले गारंटी.
  2. ठेकेदारों की तरफ से जारी सभी संग्रहण गारंटी.
  3. प्रति-धारण रकम का निर्मोचन करने के लिए गारंटी.
  4. आपूर्त वस्‍तुओं, प्रदान की गईं सेवाओं आदि के प्रति पैसे का भुगतान करने के लिए गारंटी (तेल कंपनियों, उर्वरक कंपनियों, एअरलाइन्‍स के पक्ष में गारंटी, उत्‍पाद शुल्‍क गारंटी).
  5. बिक्री कर, आय कर, उत्‍पाद शुल्‍क/सरकारी मांग के बदले 100% नकदी जमाराशि के प्रति गारंटी.
  6. जमाराशि का निर्मोचन करने/अदालत को भुगतान करने के बदले दी गई गारंटी.
  7. आस्‍थगित भुगतान गारंटी.

प्रतिभूति: गारंटी के लिए दी गई प्रतिभूति, या तो खुद की जमाराशियों के रूप में अथवा दूसरी स्‍वीकार्य गोचर प्रतिभूति हो सकती है जैसे; जीपी नोट, पर्याप्‍त अभ्‍यर्पण मूल्‍य के साथ बीमा पॉलिसियां और आसानी से बेचने लायक शेयर.

जमानत के तौर पर अचल संपत्ति का बंधक, सिर्फ अपवादात्मक मामलों में और तभी स्‍व ीकार किया जाए जब ग्राहक के बारे में अच्‍छी तरह मालूम हो , बशर्ते कि गारंटी राशि के कम से कम 25% के लिए नकदी मार्जिन दिया गया हो.

कमीशन: 100 रु. + 0.75% प्रति तिमाही या उसका अंश.

लॉटरी एजेंटों/शराब के ठेकेदारों/शराब की दूकानों की तरफ से 100% के साथ बैंक गारंटी/साख पत्र जारी करना/सिद्ध करना

उन ग्राहकों की तरफ से जो एजेंट/लॉटरी टिकटें/एअरलाइन टिकटें बेचते हैं, सरकारी विभागों, एअरलाइन्‍स और अन्‍य कंपनियों के पक्ष में नकदी जमाराशि अथवा बयाना के बदले गारंटी.


प्रतिभूति: 100% मार्जिन.

वायदा बिक्री, वादा क्रय ठेके

विदेशी मुद्रा संबंधी मैनुअल में दिए गए मार्गनिर्देशों और भारतीय रिजर्व बैंक के मौजूदा मार्गनिर्देशों के अनुसार.

न्‍यूनतम 25%(देशी) नकदी मार्जिन के साथ साख पत्र

सामान्‍यत: साख पत्र उन ग्राहकों के मामले में खोले जाएं जिनको हमने ऋण सुविधाएं दी हो. साख पत्र के जरिए खरीदी जानेवाली वस्‍तुओं के समग्र उपभोग के आधार पर साख पत्र खोलने की सीमाएं अलग रूप से तय की जाएं.
सीमा एक ही लेन - देन के लिए या एक नियमित रूप से सीमा के रूप में तय की जा सकती है.
साख पत्र के किसी भी निम्नलिखित के रूप में संबंधित ग्राहकों द्वारा अपेक्षित श्रेणियों के तहत खोला जा सकता है.
 

  1. बेजमानती
  2. प्रलेखी
  3. विकल्‍पी
  4. अविकल्‍पी
  5. आश्रयसहित
  6. आश्रयरहित
  7. परिक्रामी

साख पत्र के जरिए उत्‍पन्‍न बिलों का भुगतान करने हेतु जहॉं ग्राहकों बैंक से वित्तीय सहायता का इच्छुक होते हैं, कुंजी ऋण या नकद क्रेडिट के रास्ते से उपयुक्त सीमा के अधीन ऋण का विचार कर सकते हैं.

साख पत्र.

अंतर्देशीय साख पत्रों आमतौर पर 3 महीने 6 महीने के बीच में खोला जाता हैं, और इस मामले में इन करने के लिए लंबी अवधि के लिए खोला जा लेकर अवधि के लिए खोल रहे हैं, वहाँ न्यायोचित आधार होना चाहिए.

 दस्तावेजी अंतर्देशीय साख पत्र शाखाओं द्वारा स्थापित दृष्टि या (मंजूरी प्राधिकारी की पूर्व अनुमति के साथ) विनिमय डी/ए शर्तों के मीयादी बिलों के लिए देय विनिमय के बिल के लिए कह सकते हैं. मामले में बिल डी / ए के आधार पर तैयार कर रहे हैं, परिपक्वता पर ही लाभार्थी को भुगतान किया जाना चाहिए.

न्‍यूनतम 25% मार्जिन के साथ अंशत: जमानती/गैर-जमानती/निर्बंध गारंटी/सह-स्‍वीकृति

पात्रता:

ऐसे मौजूदा ग्राहक जिनको बैंक ने ऋण सीमाएं दी हो और उन सीमाओं का संचालन संतोषजनक ढंग से हो.
यह देखा जाए कि सह-स्‍वीकृत बिलों से संबंधित वस्‍तुएं, उधारकर्ता के स्‍टॉक खाते में वास्‍तव में प्राप्‍त होती हैं.

अन्‍य बैंकों द्वारा सह-स्‍वीकृत बिलों की भुनाई

ऐसे मौजूदा ग्राहक जिनको बैंक ने ऋण सीमाएं दी हो और उन सीमाओं का संचालन संतोषजनक ढंग से हो.

अन्‍य बैंकों द्वारा सह-स्‍वीकृत बिलों की भुनाई करने से पहले, शाखा को स्‍वीकार करनेवाले बैंक के संबंधित नियंत्रक कार्यालय से लिखित पुष्‍टीकरण पाना होगा और उसे रेकॉर्ड में रखना होगा.

न्‍यूनतम 25% मार्जिन के साथ अंशत: जमानती/गैर-जमानती/निर्बंध गारंटी/सह-स्‍वीकृति

जमानत के तौर पर अचल संपत्ति का बंधक, सिर्फ अपवादात्मक मामलों में और तभी स्‍व ीकार किया जाए जब ग्राहक के बारे में अच्‍छी तरह मालूम हो , बशर्ते कि गारंटी राशि के कम से कम 25% के लिए नकदी मार्जिन दिया गया हो. लेकिन, विवेकाधीन अधिकार संबंधी चार्ट में यथा निर्दिष्‍ट गारंटी की मात्रा और मंजूरी प्राधिकारी के स्‍तर के आधार पर अंशत: प्रतिभूत गारंटियों के मामले में प्राप्‍त किये जानेवाले न्‍यूनतम नकदी मार्जिन में फर्क होगा.

शोधन क्षमता/क्षमता प्रमाणपत्र जारी करना

शोधन क्षमता प्रमाणपत्र, मार्गनिर्देशों और अनुदेश पुस्तिका में निर्धारित प्रारूप में ही जारी किया जाए.

सहयोगी बैंकों और सरकारी क्षेत्र की वित्‍तीय संस्‍थाओं जैसे एलआईसी, यूटीआई, आईसीआईसीआई, राज्‍य वित्‍तीय निगम, राज्‍य औद्योगिक विकास निगम आदि को ग्राहकों के ऋण के बारे में जानकारी, ग्राहकों की स्‍पष्‍ट अथवा निहित सहमति लेने के बाद ही गुप्‍त रूप से दी जाए.

शोधन क्षमता प्रमाणपत्र जारी करना:
शोधन क्षमता प्रमाणपत्र जारी करने के लिए, नीचे उल्लिखित निर्धारित दर से सेवा प्रभार लिया जाए:
1 लाख रु. तक - 112 रु.
1 लाख रु. से अधिक - 112 रु. प्रति लाख, अधिकतम 1122/- रु. 

प्रदर्शन