सरकार प्रायोजित योजनाएं

 

योजना के विशेषताएं
·         राज्य के एजेंसियों के द्वारा सामाजिक न्याय व शक्ति मंत्रालय के शिखर निगमों के माध्यम से कार्यान्वित करना.
·         शिनाख्त हुए कचरा उठाने वालों को प्रशिक्षण, ऋण, तथा उपदान देना.
·         राज्य द्वारा आए एजेंसियों के द्वारा प्रायोजित उम्मिदवारों को ही बैंक ऋण देता है. ऋण मंजूर करहे के बाद, बैंक राज्य द्वारा आए एजेंसियो से पूंजी उपदान की राशि का दावा करेगा जो बदले में स्वीकृत पूंजी उपदान उपलब्ध कराएगा जिसे हिताधिकारियों के बीच ऋण राशि के साथ वितरित कर दिया जाएगा.
·         बैंक द्वारा ऋण उपलब्ध किया जाएगा, जिस पर योजना के तहत निर्धारित दर पर हिताधिकारियों से व्याज डाला जाएगा.
·         राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी वित्त व विकास निगम (एनएसकेएफडीसी) या शिखर स्तर पर शिनाख्त हुए कोई अन्य एजेंसी अपने राज्य चानल एजेंसी के माध्यम से व्याज उपदान दिलाएंगे.
निधि उपलब्ध कराना 
·         इस योजना में रु.5.00 लाख तक का परियोजना लागत उपलब्ध कराता है. ऋण की राशि स्वीकृत पूंजी उपदान की कटौती के बाद परियोजना लागत का बचा भाग होगा.
·         इस योजना के तहत कोई मार्जिन रकम/प्रोत्साहकों की अंशदान नहीं होगा.

सावधी ऋण (रु.5 लाख तक का अधिकतम लागत) तथा सूक्ष्म वित्तपोषण (रु.25000 तक अधिकतम राशि) दोनों योजना के अधीन स्वीकृत हैं. स्व सहायता समूह (एसएचजी) तथा प्रख्यात गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के माध्यम से भी सूक्ष्म वित्तपोशण किए जाते हैं.

 

योजना के विशेषताएं
·         राज्य के एजेंसियों के द्वारा सामाजिक न्याय व शक्ति मंत्रालय के शिखर निगमों के माध्यम से कार्यान्वित करना.
·         शिनाख्त हुए कचरा उठाने वालों को प्रशिक्षण, ऋण, तथा उपदान देना.
·         राज्य द्वारा आए एजेंसियों के द्वारा प्रायोजित उम्मिदवारों को ही बैंक ऋण देता है. ऋण मंजूर करहे के बाद, बैंक राज्य द्वारा आए एजेंसियो से पूंजी उपदान की राशि का दावा करेगा जो बदले में स्वीकृत पूंजी उपदान उपलब्ध कराएगा जिसे हिताधिकारियों के बीच ऋण राशि के साथ वितरित कर दिया जाएगा.
·         बैंक द्वारा ऋण उपलब्ध किया जाएगा, जिस पर योजना के तहत निर्धारित दर पर हिताधिकारियों से व्याज डाला जाएगा.
·         राष्ट्रीय सफाई कर्मचारी वित्त व विकास निगम (एनएसकेएफडीसी) या शिखर स्तर पर शिनाख्त हुए कोई अन्य एजेंसी अपने राज्य चानल एजेंसी के माध्यम से व्याज उपदान दिलाएंगे.
निधि उपलब्ध कराना 
·         इस योजना में रु.5.00 लाख तक का परियोजना लागत उपलब्ध कराता है. ऋण की राशि स्वीकृत पूंजी उपदान की कटौती के बाद परियोजना लागत का बचा भाग होगा.
·         इस योजना के तहत कोई मार्जिन रकम/प्रोत्साहकों की अंशदान नहीं होगा.

सावधी ऋण (रु.5 लाख तक का अधिकतम लागत) तथा सूक्ष्म वित्तपोषण (रु.25000 तक अधिकतम राशि) दोनों योजना के अधीन स्वीकृत हैं. स्व सहायता समूह (एसएचजी) तथा प्रख्यात गैर सरकारी संगठनों (एनजीओ) के माध्यम से भी सूक्ष्म वित्तपोशण किए जाते हैं.

प्रदर्शन